पुरवईया Purvaiya Lyrics – Shankar Mahadevan |

Purvaiya Lyrics In English, sung by Shankar Mahadevan. Music by Shankar Ehsaan Loy. The song lyrics in Hindi by Javed Akhtar. The song from the Bollywood blockbuster movie “Toofaan” featuring Farhan Akhtar & Mrunal Thakur.

Purvaiya Lyrics

Song Details

Song: Purvaiya Lyrics
Singer: Shankar Mahadevan
Album: Toofaan
Lyricist: Javed Akhtar
Music: Shankar Ehsaan Loy
Cast: Farhan Akhtar & Mrunal Thakur
Music Label: Zee Music Company

Purvaiya Lyrics In Hindi

समय के पन्नो पे लिख रही है
ये ज़िंदगी जो कहानी
है कैसे मोड़ इसमे आने वाले
ये बात किसने है जानी

यही ज़िंदगी हंसाए
यही ज़िंदगी रुलाए
यही ज़िंदगी दे लॉरी
यही ज़िंदगी जगाए

यही लाती है अंधेरे
यही रोशनी भी लाए
यही ज़ख़्म ज़ख़्म कर दे
और यही मरहम लगाए

हर पल यहाँ नया समा
नये ज़मीन नये आसमान है
कभी तो है नरम हवा
और कभी गरम आँधियाँ है
आँधियाँ है

तेज़ चली रे पुरवईया
दिन में लाई रात रे
तेज़ चली रे पुरवईया
बिखरे है फूल और पात रे

तो बस हैरान हैरान सोचे इंसान
होनी है अब क्या बात रे
बस हैरान हैरान सोचे इंसान
होनी है अब क्या बात रे
तेज़ चली रे पुरवईया

समय के पन्नो पे लिख रही है
ये ज़िंदगी जो कहानी
है कैसे मोड़ इसमे आने वेल
ये बात किसने है जानी

वो आँखें जो कही नही
उनके सपने मैने है संभाल के रखे
यादों ने सारी तस्वीरें और दिल ने
दर्द है कमाल के रखे

अपनी धड़कनो में और साँसों में
मैने जिसको रखा है ज़िंदा
उसकी उमीदों को उसके ख्वाबों को
कैसे होने दूँगा शर्मिंदा

राहों में थे बिछे हुए
दहके दहके अँगारे
आकाश से पत्थर बरसे
ये सपने फिर भी ना हारे
फिर भी ना हारे

तेज चली रे पुरवईया
दुनिया लगाए है घाट रे
तेज चली रे पुरवईया
दिल नही मानता मात रे

तो बस हैरान हैरान सोचे इंसान
होनी है अब क्या बात
रे तो बस हैरान हैरान सोचे इंसान
होनी है अब क्या बात रे

तेज़ चली रे पुरवईया पुरवईया
तेज़ चली रे तेज चली रे
तेज़ चली पुरवईया

You May Also Like

[crp]

Music Video Of Purvaiya Song

Purvaiya Lyrics In English

Samay ke panno pe likh rahi hai
Yeh zindagi jo kahani
Hai kaise mod isme aane wale
Yeh baat kisne hai jaani

Yehi zindagi hasaye
Yehi zindagi rulaye
Yehi zindagi de lori
Yehi zindagi jagaye

Yehi lati hai andhere
Yehi roshni bhi laaye
Yehi zakham zakham kar de
Aur yehi marham lagaye

Har pal yahaan naya sama
Naye zameen naye aasman hai
Kabhi to hai naram hawa
Aur kabhi garam aandhiyan hai
Aandhiyan hai

Tez chali re purvaiya
Din mein laayi raat re
Tez chali re purvaiya
Bikhre hai phool aur paat re

To bas hairan hairan soche insaan
Honi hai ab kya baat re
Bas hairan hairan soche insaan
Honi hai ab kya baat re
Tez chali re purvaiya

Samay ke panno pe likh rahi hai
Yeh zindagi jo kahani
Hai kaise mod isme aane wale
Yeh baat kisne hai jaani

Woh aankhein jo kahi nahi
Unke sapne maine hai sambhal ke rakhe
Yaadon ne saari tasveerein aur dil ne
Dard hai kamaal ke rakhe

Apni dhadkano mein aur saanson mein
Maine jisko rakha hai zinda
Uski umeedon ko uske khwabon ko
Kaise hone doonga sharminda

Raahon mein thhe biche huye
Dehke dehke angare
Aakash se patthar barse
Yeh sapne phir bhi na haare
Phir bhi na haare

Tej chali re purvaiya
Duniya lagaye hai ghat re
Tej chali re purvaiya
Dil nahi maanta maat re

Toh bas hairan hairan soche insaan
Honi hai ab kya baat
Re to bas hairan hairan soche insaan
Honi hai ab kya baat re

Tez chali re purvaiya purvaiya
Tez chali re tej chali re
Tez chali purvaiya